Encrypting your link and protect the link from viruses, malware, thief, etc! Made your link safe to visit.

How to Take Breath While Running in दौड़ते समय सांस कैसे लेनी ...




 हर व्यक्ति जब कभी रनिंग स्टार्ट करता है तो उसमें बहुत ही परेशानी आती है जिनमें से एक है रनिंग करते हुए सांस कैसे लें?


 क्योंकि बॉडी तो और दौड़ने के लिए तैयार है लेकिन सांस फूलने लगती है सीने में ऐसा लगता है कि अब कहीं फट ना जाए ऐसा होने का कारण है। सही से सांस न लेना जिस कारण से रनिंग को रोकना पड़ता है कि रनिंग करना एक कला है जिसको आप बार-बार प्रेक्टिस करके सीख सकते हैं। अगर प्रेक्टिस नहीं करेंगे तो आप कभी नहीं सीखेंगे जितना ज्यादा प्रैक्टिस करेंगे उतनी ही ज्यादा अच्छी आपकी रनिंग हो जाएगी तो सांस लेना भी इस कला का एक पाठ है। जिसको आप प्रेक्टिस करके देख सकते हैं।  वज़न बढ़ाने के घरेलु उपाय | Gain Weight


हर लड़के का रनिंग करने का अंदाज अलग होता है। इसे सीखने में टाइम भी लग सकता है। अगर आप जल्दी ही सीखना चाहते हैं तो प्रेक्टिस के साथ आपको दौड़ की टेक्निक और रूल्स का पालन करना होगा I


 रनिंग करते समय सांस लेने का सही तरीका क्या है


 जिससे आप लंबे समय तक आसानी के साथ रनिंग कर पाओगे, हम दो तरीकों से सांस लेते हैं नॉर्मल ब्रेथ सामान्य सांस और डीप ब्रेथ यानी गहरी सांस तो पहले हम बात करते हैं।

 नॉर्मल ब्रेथ टेक्निक के बारे में नॉर्मल सांस लेते हैं तो अपने फेफड़ों यानी लंच के ऊपरी हिस्से का ही इस्तेमाल करते हैं और हमारी बॉडी को सफेद इन क्वांटिटी में ऑक्सीजन मिल जाती है।


जिससे शरीर की सभी क्रिया आराम से काम करवाती है। जबकि हमारे फेफड़े यानी लाइन की कैपेसिटी 6 लीटर ऑक्सीजन को स्टोर करने की होती है। जबकि हम नॉर्मल सांस लेने में आधा लीटर ऑक्सीजन लेते हैं और आधा लीटर कार्बन डाइऑक्साइड को छोड़ते हैं मतलब कि जितना लिया है उतना ही बाहर निकाल दिया तो इस कंडीशन में संतुलन यानी बैलेंस बना रहता है।


जब हम दौड़ने के लिए जाते हैं रनिंग के लिए जाते हैं तो जल्दी जल्दी सांस लेना शुरू कर देते हैं और जब मुंह से ज्यादा सांस एनी आक्सीजन अंदर खींच लेते हैं।


लेकिन कार्बन डाइऑक्साइड को नहीं छोड़ते तो क्या होता है


फेफड़ों में जरूरत से ज्यादा हवा भर जाती है जिससे बैलेंस बिगड़ जाता है और फिर नई ऑक्सीजन फेफड़ों में कम आती है और फेफड़ों की मांसपेशियों पर जोर पड़ता है और फेफड़े तुरंत थक जाते हैं और साथ ही साथ बिना ऑक्सीजन के बॉडी में लैक्टिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। दौड़ते समय साँस फूलने से कैसे बचे? - Shortness Of Breath While Running | Running Technique In Hindi


जिससे बॉडी थक जाती है और थक कर रुकना पड़ता है इसलिए जरूरी हो जाता है कि सांस को सही से छोड़े रनिंग करते समय सांस को पूरी तरह बाहर निकालना भी जरूरी होता है।

डीपब्रिड टेक्निक गहरी सांस टेक्निक के बारे में


 अब हम बात करते हैं। डीपब्रिड टेक्निक गहरी सांस टेक्निक के बारे में सामान्य बीच में जब हम सांस लेते हैं तो हमारी छाती फूलती है। लेकिन अगर हम एक गहरी सांस लेना है तो हमारा पेट फूलना चाहिए।


गहरी सांस में हम एक लंबी सांस को अंदर खींचते हैं और धीरे-धीरे बाहर छोड़ते हैं। जैसा कि योगा के दौरान किया जाता है।


 इस प्रैक्टिस में हवा पेट तक आती है। क्योंकि फेफड़े की लंबाई हमारे पेंट से जुड़े। डायफ्राम Diaphragm तक होती है जब हम गहरी सांस लेते हैं तो डायफ्राम फैलता है जिसके कारण पेट फूलता है।


 दौड़ के दौरान सांस कैसे ले?


दौड़ यानी रनिंग के दौरान सांस कैसे लेनी चाहिए दौड़ के दौरान आपको कुछ खास चीजों का ध्यान रखना होगा जैसे कि


 1 : दौड़ते समय सांस को लंबा और गहरा लेना है। जिससे ऑक्सीजन की मात्रा से बढ़ें और हम एक साथ में पांच से छह कदम दौड़ सके क्योंकि अगर आप छोटी सांस लेंगे तो ऑक्सीजन एक दो कदम में ही खत्म हो जाएगी और फिर जल्दी जल्दी सांस लेना पड़ेगा जिसका रिजल्ट होगा कि थोड़ी सी दूरी में ही शरीर थक जाएगा


2: पूरी तरह से सांस छोड़ना जितने  जरूरी है उतने ही अच्छे से सांस को छोड़ना भी जरूरी है तो जितनी सांस अंदर खींच ते  है। उतनी ही सांस छोड़ भी दें। उसके बाद ही आपको नयी सांस लेनी है


3:  सांस लेने की स्पीड दौड़ने की। स्पीड करती है अगर आप धीरे-धीरे दौड़ रहे हैं तो सांस लेने की स्पीड भी कम होनी चाहिए और तेज दौड़ रहे हैं तो सांस लेने की स्पीड भी तेज होनी चाहिए


4:  पैरों की रिदम और सांस लेने की प्रैक्टिस को एक ही रिदम में रखिये जैसे कि दो कदम में सांस को अंदर लेना और दो कदम में सांस को बाहर छोड़ना यह सांस को अंदर लेना और दो कदम में सांस को बाहर छोड़ना जो भी तरीका आपको पसंद आएगा बस लगातार उसी रिदम में दौड़ते जाएंगे जिसकी लगातार बहुत प्रैक्टिस करनी होगी और रनिंग के दौरान सांस लेना बहुत ही आसान हो जाएगा।


सांस नाक से लेनी चाहिए या मुंह से?


 1: दौड़ते समय रनिंग करते समय सांस नाक से लेनी चाहिए या फिर मुंह से कुछ पहले छोटीछोटी  कमियों सुधारते हैं और फिर धीरे-धीरे सभी कमियों को हटाकर उस काम के मास्टर बन जाते हैं


तो पहले आपको अपनी रनिंग की कमियों को एक-एक करके इस तरह से खत्म करना होगा।


लंबी गहरी सांस लेना सीखिए आप कम स्पीड में रनिंग कर रहे हैं तो आपको लंबी और गहरी सांस लेने की प्रैक्टिस करनी होगी और प्रैक्टिस के साथ साथ ही आप इसको सीख जाओगे


2: आपको सांस और कदम की रिदम बनाना सीखनी होगी जैसे कि आपको दो कदम पर सांस लेनी है और दो कदम पर आपको सांस छोड़ देनी है या फिर आपको तीन कदम पर सांस लेनी है दो कदम पर आपको सांस छोड़ देनी है तो सांस और कदम के बीच में रिदम बनाना आपको सीखना पड़ेगा

3:  नाक से सांस लीजिये और मुंह से बाहर निकालिए शुरू में आपको ही प्रैक्टिस करनी होगी कि रनिंग करते समय आप नाक से सांस लीजिए और मुंह से आप सांस को बाहर निकालिए

4 : नाक से सांस लीजिए और नाक से ही बाहर निकालिए इसके बाद फाइनली आपको प्रैक्टिस करनी है कि आप रनिंग करते समय नाक से ही सांस लें और नाक से ही बाहर निकाले रनिंग करते समय कभी भी आपको मुंह से सांस नहीं लेनी चाहिए। क्योंकि नाक का अपने सिस्टम होता है जब आप नाक से सांस लेते हैं तो नाक हवा से शुद्ध ऑक्सीजन को फेफड़ों तक लंच तक पहुंचाती है।


लेकिन जब आप मुंह से सांस लेते हैं तो मुंह का ऐसा कोई डिफेंस सिस्टम नहीं है तो खराब हवा भी लंच तक पहुंच जाती है। जिससे काफी नुकसान होता है। क्योंकि अब आप समझ गए होंगे कि आपको रनिंग करते समय लंबी और गहरी सांस लेनी है सांस और कदम के बीच में आपको रिदम बनाना है मतलब कि दो कदम पर सांस लेनी है और अन्य दो कदम पर आपको सांस छोड़नी है या फिर तीन कदम पर आपको सांस लेनी है और अगले दो कदम पर आपको सांस छोड़नी है। रनिंग करते समय आपको नाक से सांस लेनी है और फिर नाक से या मुंह से बाहर निकाल ली है।




ST